जिगरी दोस्त शायरी 2 line

खुदा का शुक्र करता हू मैं, कि उसने आपको हम से मिला दिया, यह अलग बात है एह मेरे दोस्त, आपने दर्दे-दिल हमारा बढ़ा दिया.

हम वक्त और हालात के साथ शौक बदलते हैं, दोस्त नही.

हम शराब नही पीते लेकिन शराबी दोस्त रखते है, क्यकि शराबी दोस्त अच्छे होते है, ग्लास जरूर तोड़ते हैं, लेकिन दिल नही.

यारो दोस्ती के दावे मुझे नहीं आते, एक जान है जब दिल चाहें मांग लेना.

दोस्ती हर चहरे की मीठी मुस्कान होती है, दोस्ती ही सुख दुख की पहचान होती है, रूठ भी गऐ हम तो दिल पर मत लेना, क्योकि दोस्ती जरा सी नादान होती है.

दोस्तों से रूठकर रहोगे तो कुत्ते भी सताएंगे, और दोस्तो से मिलकर रहोगे तो शेर भी घबरायेंगे.

मोहब्बत तो फ़िर भी दिल से हो जाती है, मगर दोस्ती के लिए जिगरा होना चाहिए.

READ MORE