तहलका 2 line शायरी

जिना है तो ऐसे जीओ की बाप को भी लगे की मैने एक शेर पाला है।

भाई बोलने का हक़ मैंने सिर्फ दोस्तों को दिया है, वरना दुश्मन तो आज भी हमें बाप के नाम से पहचानते हैं।

इतने बड़े बनो कि जब आप खड़े हों तो कोई बैठा न रहे।

मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना, पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हूँ ।

एक दिन साला‬ ‪लोगों कि गर्दी‬ ‪और‬ खाकी वर्दी दोनो‬ ‪अपने को‬ ‪सलाम ठोकेगी।

ख्वाब टूटे है मगर हौंसले जिन्दा है, हम तो वो है, जिन्हें देख के मुश्किलें भी शर्मिंदा है।

जली को आग और बुझी को राख कहते है, और जिसका तुम स्टेटस पढ़ रहे हो उसे Attitude का बाप कहते है।

READ MORE