सबसे बेस्ट शायरी attitude

आज तक ऐसी कोई रानी नहीं बनी, जो इस बदमाश को अपना गुलाम बना सके !

रहते हैं आस-पास ही लेकिन साथ नहीं होते, कुछ लोग जलते हैं मुझसे बस खाक नहीं होते.

सर झुकाने की आदत नहीं आंसू बहाने की आदत नहीं, हम बिछड़ गए तो रोओगे, क्योंकि हमारी लौट के आने की आदत नहीं.

जिसको जो कहना है कहने दो, अपना क्या जाता है, ये वक्त वक्त की बात है, और वक्त सबका आता है.

हम भी नवाब है लोगों की अकड़ धूएँ की तरह उड़ाकर, औकात सिगरेट की तरह छोटी कर देते है.

हम बाजीराव नहीं जो मस्तानी के लिए दोस्ती छोड़ दे, अरे पगली हम तो दोस्ती के लिए हज़ारो मस्तानी छोड़ देंगे !

मेरे ठोकरें खाने से भी कुछ लोगों को जलन है, कहतें हैं यह शख्स तजुर्बे में आगे निकल गया !

READ MORE