हिंदी में प्रेम शायरी

प्रेम कोई बंधन नहीं जो बाँधा जाए प्रेम तो एक ख़ुशबू है जिसे चढ़ जाए वो हरदम हवा में बस उड़ता जाता है !

मुफ्त में नही मिलती जमाने में मोहब्ब्त, एक दिल देना पड़ता है, एक दिल पाने के लिए !

प्रेम इतना हो गया तुमसे, कि जीने के लिए सांसो की नही, हमे तुम्हारी जरूरत है !

न जाने तेरे साथ कितने ख्वाब, सजाए बैठे है तुझे आपनी जिन्दगी, तुझे आपनी दुनिया बनाए बैठे हैं !

नशा था तेरे प्यार का जिसमे हम खो गए हमें भी नही पता चला कब हम तेरे हो गए !

आंखों के अंदाज बदल जाते हैं, जब कभी हम उनके सामने से जाते हैं !

बड़ी उदासी सी है गमों की प्यास सी है, दिल है तनहा मिलने की आस सी है !

READ MORE