sad zindagi shayari hindi

ज़िन्दगी तुहि बता कैसे तूझे प्यार करूं तेरी हर एक सुबह मुझे अपनों से दूरी का एहसास देती है

वो लोग आते क्यू है ज़िन्दगी में हमारे जिसे बिछड़ना होता जिन को किसी बहाने से

खुशी मिली है न सके गम मिला तो रो न सके ज़िन्दगी का यही दस्तूर है जिसे चाहा उसे पा न सके और जिसे पाया उसे चाह न सके

ज़िन्दगी की हर तमन्ना पूरी नहीं होती तक़दीर की कोई भी मजबोरी नै होती

गलत किया जो तेरे वादे पे एतबार किया सारी जिंदगी तेरे आने का इंतज़ार किया

अगर मोहब्बत नही थी तो बता दिया होता तेरे एक चुप ने मेरी ज़िन्दगी तबाह कर दी

लुटा दी हमने अपना सब हासिल-ज़िन्दगी सिकंदर से फ़क़ीर हुए एक यार की खातिर

READ MORE